Geography

Geography

उत्तर अमेरिका

कनाडियन शील्ड आप्लेशियन पर्वत मध्यवर्ती पश्चिमी कार्डिलिस
या पूर्वी उच्च मैदान या पर्वत श्रेणी
भूमियां
1. व्यूफर्ट सी Victoria I Bank 9 Queen Elizabeth island
2. मैंकेजी वे +Guif of
3. वैफिन वे + बुंयिया बूटिया पेनिसुला फाक्स पेनिनसुला उनगावा पेनि.
4. हडसन स्ट्रेट (Hudson Bad को लैब्राडोर सी से जोड़ता है
5. लैब्रेडोर सी (Baffin island को उनगावा पेनिनसोला वे लग करता है
6. ब्युफाउन्डलैण्ड आइसलैण्ड़ Dauistastrait Baffin Bay को Labrador sea से जोड़ता है (Baffin island को Greenland) से अलग करता है।
7. स्ट्रेट ऑफ बेले आइसलैण्ड
8. गल्फ ऑफ सेंट लारेंस
9. बे ऑफ फन्डी लैब्रेडोर पेनिन सूला ब्यूफाउंडलैंड आइ.
10. पेसापीक बे बे ऑफ फन्डी Pearl cuture

फ्लोरिडा पेनिन सूला
11. हडसन बे
12. Gulf of Maxico
13. कैरेबियन सी युकाटान पेनि
14. Gulf of California
15. स्ट्रेट ऑफ जुआन डी Vacaur 9
फूका
16. Gulf of Alaska Alaska penin
17. बेरिंग सी
18. बेरिंग स्ट्रेट
19. ब्रिस्टल बे
20. कुसक्वोविन बे
21. बेरिंग स्ट्रेट बेरिंग सी को आर्कटिक ocean से

माउन्ट मैकिनले- अमेरिका की सबसे ऊँची चोटी
Brooks Range
Alaska Range
Kuskokarim Mt.
मैकेन्जी पर्वत
फ्रैंकलिन पर्वत
सेकी माउन्टेन
कोस्ट रेन्ज
कैसकेड रेन्ज
सेथेरा नेवादा
ईस्टर्न सियेरामाद्रे
कोलम्बिया प्लेट्स
कोलोरैडो
मैक्सिकन प्लेट्स
आपलेशियन माउन्ट (दक्षिण पूर्व)
अलागेनी माउन्ट
ब्ल्यूरिज
सुपीरियर- मीठे पानी की सबसे बड़ी झील, दूसरी सबसे बड़ी पहली कैस्पियन
मिशीगन- पूरी तरह अमेरिका में,शिकागो जंक्शन
ट्यूरन- (मिशीगन और ओटावा)
एंटी- बफेलो, एक्रान , टोलेडो, एक्रान
ओन्टारियों – सभी महान झीलों मे सबसे छोटी
Su. Kanal- एरी ओन्टारियो
Great Bear
ग्रेट स्लेब
अन्याबास्का
रेंडियर
अमेरिका(USA)- बड़े राज्य, अलास्का, टेक्सास, कैलीफोर्निया सबसे छोटा – रोड आइलैण्ड
नदी
मैकेन्जी- मैकेन्जी बे मे गिरती है। कोलंबिया (स्नेकसहायक)
सेंट लारेंस
डिजरेली
मिसिसिपी COTTON BELT
सेंट लुई शहर मिलती है
मिसौरी
हडसन
रिया ग्रान्डे- USA और मैक्सिको की सीमा बनाती है
नियाग्राफाल- एरी ओन्टारियों
मोजावे डेजर्ट – डेथ वैली
Recant yedoral territory of Canoda- Naunanet
Largest prauirice of Canada- Cubec
तटवर्ती- नोवा स्कोशिया
प्रिन्स एडवर्ड
न्यूब्रैन्सविक
Largest city of Canada – Torronto
Most populated province – on torio
कनाडा कागज, लुग्दी उद्योग
Sudbury mixs- लेड (शीश) +Zink +Silver
न्यूयार्क- Germent केमिकल
बाल्टीमोर बफेलो- Irans Steel
बोस्टन – फोटोग्राफिक प्लेट, उपकरण
पिट्सवर्ग- इलेक्ट्रिकल
हार्टफोर्ड- एयरक्राफ्ट इंजन के
न्यूयार्क वाशिंगटन- प्रिंटिग
शिकागो- रेलवे, मशीनरी, स्टील, रेलवे, फूड प्रोसेसिंग
क्लीव्लैंड- आयरन एण्ड स्टील
एक्रोन- आटोमोबाइल टायर
फिलाडेल्फिया – लोवर डेलावी नदी
बाल्टीमोर – पेटापस्कियों
Cotton texes
Grapor (अंगूर) – कैलीफोर्निया
Orang- (Florida)
व्हीट- कैनसास
Corn – इलिनोइस
Sugar- फ्लोरिडा- चूना पत्थर की स्थलाकृति
Rice – एरीजोना
Grandneets-Georgia
Apple – Nova Skotia
Corn – ओन्टारियो
Barlay – अल्बटी
Oat

दक्षिण अमेरिका
संसार का चौथा बड़ा महाद्वीप
एण्डीज- दूसरा सबसे बड़ा वलित (हिमालय प्रथम) एकांकगुआ सबसे ऊंचा पर्वत शिखर
बोलेवियत प्लेट्यू
लेक मराकाइबो(तेल) – दक्षिण अमेरिका की सबसे बड़ी झील
वेलम शहर (Mount, of Amazon)
बाल्दिस प्रायद्वीप- दक्षिण अमेरिका का सबसे निचला भाग
चिम्बराजो- इम्वेडोर की सबसे ऊंची चोटी
आजास्तदल बलादो – विश्व का सबसे ऊँचा अन्तपर्वतीय पठार
Selvas- Amazon Basin (घास के मैदान)
Catingas
Plateaucef
Mato Grasso
ग्रान चाको
पैक्पास
पैटागोनिया
मटाकामा डेजर्ट
कोटोपेक्सी
ओटीनीको नदी
अमेजन
स्लाटा(पराना +पराग्वे +उरुग्वे+सहायक नदियों)
एंजिल जल प्रपात- वेनेजुएला में ओरिनिको की सहायक नदी कैसरो पर है।
पाढमाया- Cab , Equador , Peru, Border
अरीका- घोस्ट टाउन- सर्वाधिक दोहन

टोकांटिटस
मेडीस
उफ्रांसिस्को- नार्थ अटलांटिस महासागर में गिरने वाली सबसे लंबी नदी, पराना इरौपो बाँध का निर्माण
वेनेजुएला-मटाकायबो
ट्यूनीशिया- अस्सखीरा पैकेट स्टेशन- 2
लेबनान-टिपोली

इंग्लिश चैनल के एक ओर डावर तथा दूररी ओर मैले स्थित है
पैकेट स्टेशन – इनको फेरीपोर्ट भी कहा जाता है छोटे समुद्री मार्ग से आने वाले यात्रियों के उतारने चढ़ाने तथा डाक लेने व देने के लिये किया जाता है
पिल्को मायो- पटाकें की सहयक नदी
ब्राजील – शीतकालीन लाल गेहूं
यारवा माटे- चाय के समान पोंधों
मांस- अर्जेंटीना
दूध- ब्राजील
Minos giraus- सीसा , लोहा, अधिकतर खनिजों का भंडार
Cuchicas- स्थायी कृषि
Chilli – भू-मध्य सागर
Trans Canadian Railways- From Bunars Ayans to Walparzo through esplatapess
लियो ब्लांम्को से साडो लुइस- Trans Amazon highway
Bedlom- स्वर निर्यात
रियोजिजेरेरो- Miniral trianfe. (Gold Diomond Iron)
BR364- Run parallel to Baliuion Borde
Montana- Forest along the aster slops of
Endies which is valuable
मुलायम लकड़ी ब्राजील
मत्स्य – पेरू
Brazil – Iron, chemical , हल्की मशीने
फास्फेट- पेरू
Silver- Maxico
सुपारी – पारा प्रांत
Legal Capital of Ballivia- Sucra
Administrative- laparal
Sartharn mast habitat Gtg in the world
– पुन्टा एरिनास – चिली
– Drag pass- दक्षिण अमेरिका और अन्टार्कटिका क बीच विश्व का सबसे शुष्क – इकीक अटाकामा स्थान
– गौकोस- Mix uropian Amarican Cattle Bay South americab largest stpel making fascidity
– Tubaro-टूबारू
Gazondas- काफी की खेती
गर्म हवा- एण्डीज, मजेन्डाइना- (Zondo)
पाम्परो- ठंडी हवा अर्जेन्टाइना एण्ड उरुग्वे
एसटैन्सियाज – अर्जेन्टीना के रैन्च
कापर कैपिटल- चुकचीमाता
सिनिदाद- तारकोल
चिली- नाइट्रेट का सबसे बड़ा उत्पादक है।
पश्चिमी तट पर स्थिति भूमध्य सागरीय जलवायु का क्षेत्र अर्जेन्टीना क मैदानी भाग और ब्राजील का पूर्वीतट आरोही
इटाबिरा- ब्राजील का प्रमुख लौह अयस्क का खनन केन्द्र है
ब्राजील की ‘आमाया खान’ संसार में मैग्नीज की सबसे बड़ी खान है
‘वोल्टा रिटोन्डा’ में ब्राजील का पहला इस्पात कारखाना यह रियोडि जेनेरो और साओपालो के मध्य स्थित ‘परेबा घाटी’ में स्थित है।
रियोर्नड, बेले होरिजोंटो तथा ‘सैंटोल’ यहा के प्रमुख औद्योगिक नगर है।

अफ्रीका
विश्व का दूसरा बड़ा महाद्वीप
एटलस – यूरोप में प्रवेश कर गया है
ड्रैकेंसवर्ग
मलावी-
टंगानिका- बैकाल के बाद सबसे अधिक गहरी झील
अल्बर्ट- कनाडा तथा युगांडा में
साना- ब्लू नील
चाड- सहारा मरुस्थल
चाड नाइजर और सीरी नदी
बोलेटा(L) – बोल्टा नदी पर (धाना में), एकोसोम्बो डैम सेनेगल से सूडान – तुबियन
वेल्ड – नामीबिया. बोस्टवाना
विक्टोरिया – अफ्रीका की सबसे बड़ी झील
सोमालिया , सिबूती, इथोपिया (हार्न ऑफ अफ्रीका)
(Gate of tears) बाब अल मांडव – अदन से लाल सागर को टोंगो बेनिन – स्लेव कोस्ट
घाना- गोल्ड कोस्ट
आइवटी कोस्ट – ग्रैन्जड कोस्ट
Atlas- तबकल से मोरक्को – नवीन वलयी – अल्पास पर्वत
होग्गार, तिब्बेस्ती- चाड
किलिमंजोरा
माउन्टकैमरल – एक मात्र सक्रिय ज्वालामुखी
लेक अल्बर्ट, लेक हैंगानिका
लेक स्कावा
जायरे- वो महत्वपूर्ण सहायक नदी- उमांगी कसई
लिविंग स्टोनफाल,Bo-Yama Fall – जायर
कसई नदी – हीरे के महत्वपूर्ण सेब
नाइजर – पश्चिम अफ्रीका की सबसे लम्बी नदी (इनलैन्ड डेल्ट)
दो सहायक नदियां (पेन्यू, लकोजा)
जैनबोजी- कटगा के पठार से (करीबा बाँध)
मोजाम्बीक – कोबरा पाशा
जूना और सिवली नदी
लिम्पोपो- मकर रेखा को दो बार, दक्षिण अफ्रीका , बोरसबाना, जिम्बाबे के बीच प्राकृतिक सीमा (Augur-B- जलप्रपात )
लुमाबाबाशी- जायर – कापर के लिये (लुम्बाबाशी)
Banki- Coal (Zimbambe)
बिट्वाटर ग्रैंड- गोल्ड की (South Africa)
जाम्बिया (कांटगा – कापर वोल्ट)
कासावी (जायर- डायमंड)
बाक्साइट- गुयाना
कापर – जायर
प्लैटिनम- SA , टंगस्टन जायर
ट्रांसवाल- सोने क लिये
प्रिटोरिया- व्यापारिक केन्द्र, hodoa nimbi- Iran are
नाटाल – Mn, खट्टेफल
दक्षिणतम- बिन्दु- केप आफ अगुलहास
निम्नतम बिन्दु- लेक असाल
न्यायिक राजधानी – ब्लूमफोन्टेन
प्रिटोरिया- प्रशासनिक राजधानी
सूडान- Alzeria – जायरे – लीबीया (क्षेत्रफल)
इथोपिया , लाइबेरिया- कभी भी उपनिवे नहीं रहे
Magnatic – लाइबेरिया
इबोस- नाइजीरिया
यारुबास- नाइजीरिया
किकोइस – केन्या में
Jordon – Gulf Aquaba
Suez- little Bitter

LECTURE -2 (GEOGRAPHY)
अक्षांश व देशांतर (Latitude And Longitude)

मुख्य परीक्षा प्रश्न

1. संक्षिप्त टिपण्णी लिखे
a. महान झीले
b. विषुवत रेखा
c. रोकी पर्वतमाला


PAHUJA LAW ACADEMY
LECTURE -1 (GEOGRAPHY)
अक्षांश व देशांतर (Latitude And Longitude)

अक्षांश
 सभी अक्षांश रेखाएं समांतर होती हैं। इनकी संख्या 181 है तथा अंश में प्रदर्शित की जाती हैं। दो अक्षांशों के मध्य की दूरी 111 किमी. होती है। विषुवत वृत्त 0 डिग्री अक्षांश को प्रदर्शित करता है। विषुवत वृत्त के उत्तर\ के सभी अक्षांश उत्तरी अक्षांश तथा दक्षिण के सभी अक्षांश दक्षिणी अक्षांश कहलाते हैं।
 पृथ्वी पर खींचे गए अक्षांश वृत्तों में विषुवत वृत्त सबसे बड़ा है। इसकी लम्बाई 40069 किमी. है।
कुछ महत्वपूर्ण अक्षांश
 कर्क वृत्त धरातल पर उत्तरी गोलार्द्ध में विषुवत वृत्त से 23½°की कोणीय दूरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त है।
 मकर वृत्त धरातल पर दक्षिणी गोलार्द्ध में विषुवत रेखा से 23½° की कोणीय दुरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त है।
 आर्कटिक वृत्त धरातल पर उत्तरी गोलार्द्ध में विषुवत रेखा से 66½° की कोणीय दूरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त है।
 अंटार्कटिक वृत्त धरातल पर दक्षिणी गोलार्द्ध में विषुवत वृत्त से 66½° की कोणीय दूरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त है।
देशांतर
इंग्लैण्ड के ग्रीनविच स्थान से गुजरने वाली रेखा को 0° देशांतर या ग्रीनविच रेखा कहते हैं। इसके पूर्व में 180° तक सभी देशांतर पूर्वी देशांतर और ग्रीनविच देशांतर से पश्चिम की ओर सभी देशांतर पश्चिमी देशांतर कहलाते हैं।
 पृथ्वी की 24 घंटे में 360° देशांतर घूम जाती है। इसलिए पृथ्वी की घूर्णन 15 अंश देशांतर प्रति घंटा या प्रति 4 मिनट में एक देशांतर है।
कुछ महत्वपूर्ण देशांतर
 1884 में वाशिंगटन में हुए एक समझौते के अनुसार 180° को अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा कहते हैं। यह रेखा प्रशांत महासागर में उत्तर से दक्षिण तक फैली है।
 अनेक द्वीपों को काटने के कारण इस रेखा को 180° देशांतर से कहीं कहीं खिसका दिया गया है। जैसे- 66½° उत्तर में पूर्व की ओर झुकाव बेरिंग जलसन्धि तथा पूर्वी साइबेरिया में एक समय रखने के लिए।
 52½° उत्तर में पश्चिम की ओर झुकाव, एल्युशियन द्वीप एवं अलास्का में एक ही समय दर्शाने के लिए।
 52½° दक्षिण में पूर्व की ओर झुकाव, एलिस, वालिस, फिजी, टोंगा, न्यूजीलैंड एवं ऑस्ट्रेलिया में एक ही समय रखने के लिए।
 यदि अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा को पार किया जाता है, तो तिथि में एक दिन परिवर्तन हो जाता है। कोई यात्री यदि पूर्व से पश्चिम (एशिया से उत्तर अमेरिका) दिशा में अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा को पार करेगा टो वह एक दिन पीछे हो जायेगा।
 इसी तरह कोई यात्री पश्चिम से पूर्व (उत्तर अमेरिका से एशिया) की ओर यात्रा करता है टो वह एक दिन आगे हो जायेगा।
 अगर अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा पर मध्य रात्रि है तो यदि एशियाई भाग की तरफ शुक्रवार है, तो अमेरिकी भाग की तरफ गुरुवार होगा।
 ग्रीनविच मीन टाइम- इंग्लैंड के निकट शून्य देशांतर पर स्थित ग्रीनविच वेधशाला से गुजरने वाली काल्पनिक रेखा को प्राइम मेरीडियन माना गया है।
 ग्रीनविच याम्योत्तर 0°देशांतर पर है यह ग्रीनलैंड व नार्वेजियन सागर, ब्रिटेन, फ़्रांस, स्पेन, अल्जीरिया, माले, बुर्किनाफासो, घाना व दक्षिण अटलांटिक समुद्र से गुजरता है।
 प्रमाणिक समय- चूँकि विभिन्न देशान्तरों पर स्थित स्थानों का स्थानीय समय भिन्न-भिन्न होता है। इसके कारण बड़े विशाल देश के एक कोने से दूसरे कोने के स्थानों के बीच समय में बड़ा अंतर पड़ जाता है। फलस्वरूप तृतीयक व्यवसायों के सेवा कार्यों में बड़ी बाधा उत्पन्न हो जाती है। इस बाधा व समय की गड़बड़ी को दूर करने के लिए सभी देशों में एक देशांतर रेखा के स्थानीय समय को सारे देश का प्रमाणिक समय मान लिया जाता है। इस प्रकार में सभी स्थानों पर मने जाने वाले ऐसे समय को प्रमाणिक समय व मानक समय कहते हैं। हमारे देश में 82°30´ पूर्वी देशांतर रेखा को मानकमध्यान्ह रेखा (मानक समय) माना गया है। इस मध्यान्ह रेखा का स्थानीय समय सरे देश का स्थानीय समय माना गया है। इसी को भारतीय मानक समय (IST-India Standard Time) कहा जाता है। भारत का प्रमाणिक समय ग्रीनविच मध्य समय (GMT- Greenwich Mean Time) से 5 घंटा मिनट आगे है।
 स्थानीय समय वह समय है, जो कि सूर्य के अनुसार हर देशांतर पर निकला जाता है। ज सूर्य उस देशांतर पर लम्बवत चमकता है तो उसे दोपहर के 12 बजे मान लेते हैं। इसे ही स्थानीय समय कहते हैं। यह प्रत्येक देशांतर 4 मिनट के अंतर से भिन्न होता है।
 भारत में 82½° अंश पूर्वी देशांतर रेखा को मानक समय मन जाता है, जो अल्लाहाबाद के निकट नैनी से गुजरती है।
 भारत का मानक समय ग्रीनविच मीन टाइम से 5½ घंटा आगे रहता है।
 पृथ्वी का क्षेत्रफल ५१ वर्ग किलोमीटर जबकि महासागरीय क्षेत्र्फाक 36.18 करोड़ वर्ग किलोमीटर, अर्थात पृथ्वी के कुल क्षेत्र्फाक का 71% भाग है।
 महाद्वीपीय क्षेत्रफल 14.90 करोड़ वर्ग किमी. है – पृथ्वी के कुल क्षेत्रफल का 29% भाग।
 उत्तरी गोलार्द्ध को स्थलीय गोलार्द्ध कहते हैं। यहाँ पृथ्वी का 83% स्थलीय भाग स्थित है, जबकि दक्षिणी गोलार्द्ध को जलीय गोलार्द्ध कहते हैं।यहाँ पृथ्वी का 90.6% जलीय भाग स्थित है।
पृथ्वी की गतियाँ
 पृथ्वी की गतियाँ
 ● दूसरे ग्रहों की तरह पृथ्वी की भी दो गतियाँ हैं । घूर्णन था परिक्रमण
● यह अपने अक्ष पर लगातार घूमती रहती है तथा करीब 24 घण्टे में एक चक्कर पूरा करती है । इस प्रक्रिया को ‘घूर्णन’ कहते हैं ।
● पृथ्वी को सूर्य की एक परिक्रमा पूरी करने में लगभग 365 दिन और 6 घंटे लगते हैं । पृथ्वी की इस वार्षिक गति को ‘परिक्रमण’ कहते हैं ।
● घूर्णन (Rotation) को दैनिक गति भी कहते हैं जबकि परिक्रमण (Revolution) को वार्षिक गति कहते हैं.
● पृथ्वी का अक्ष उसके कक्षातल पर बने लम्ब से 23.5° झुका हुआ है । अर्थात् पृथ्वी का अक्ष पृथ्वी के कक्षा तल से 66.5° का कोण बनाता है । इसे पृथ्वी के अक्ष का झुकाव कहते हैं । इस अक्ष के उत्तरी सिरे पर उत्तरी धु्रव तथा दक्षिणी सिरे पर दक्षिणी ध्रुव है ।
● पृथ्वी अपने अक्ष पर घूमती हुई लगभग एक लाख कि.मी. प्रति घंटा की गति से सूर्य की परिक्रमा करती है ।
● सूर्य के परिक्रमण मार्ग पर पृथ्वी का अक्ष हमेशा एक ही ओर झुका रहता है । इसके कारण उत्तरी गोलार्द्ध 6 महिने सूर्य की ओर झुका रहता है । इसलिए उत्तरी गोलार्द्ध का अधिकांश भाग अपेक्षाकृत अधिक समय तक सूर्य के प्रकाश में रहता है । फलतः यहां दिन बड़े होते हैं । इसके विपरीत इसी अवधि में द. गोलार्द्ध सूर्य से दूर होता है । इसलिए वहां दिन छोटे और रातें बड़ी होती हैं ।
● केवल विषुवत वृत्त पर ही दिन और रात की अवधि बराबर होती है ।
● विषुवत वृत्त से जैसे-जैसे उत्तर या दक्षिण दिशा में बढ़ते जाते हैं, दिन व रात की अवधि में अंतर बढ़ता जाता है ।
● चूंकि 23 सितम्बर और 21 मार्च को सूर्य की किरणें दोपहर के समय विषुवत वृत्त पर लम्बवत् पड़ती है, इसलिए इन दोनों तिथियों को समस्त विश्व में दिन और रात बराबर होते हैं ।
● पृथ्वी के घूर्णन के कारण दिन और रात होते हैं, जबकि पृथ्वी के परिक्रमण से ऋतुएं बदलती हैं ।
● घूर्णन के कारण उत्तरी गोलार्द्ध में जल एवं पवनें अपनी दायीं ओर तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में अपने बायीं ओर मुड़ जाते हैं। महासागरों में ज्वार-भाटा आता है।
● पृथ्वी की झुकी हुई धुरी और परिक्रमा की गति की वजह से बसंत, गर्मी, ठंड और बरसात की ऋतुएं आती हैं ।
● परिक्रमण से निम्न प्रभाव पड़ता है –
1. सूर्य की किरणों का सीधा और तिरछा चमकना
2. वर्ष की अवधि का निर्धारण
3. कर्क और मकर रेखाओं का निर्धारण
4. ध्रुवों पर 6-6 माह के दिन और रात
5. धरातल पर ताप वितरण में भिन्नता
6. जलवायु कतिबंधों का निर्धारण
7. दिन-रात का छोटा बड़ा होना
 ● कर्क संक्रांति – पृथ्वी द्वारा सूर्य के परिक्रमण में 21 जून की स्थिति जब सूर्य कर्क रेखा पर लम्बवत पड़ता है ।
● मकर संक्रांति- पृथ्वी द्वारा सूर्य के परिक्रमण में 22 दिसम्बर की स्थिति जब सूर्य मकर रेखा पर लम्बवत पड़ता है।
● विषुव- 21 मार्च और 23 सितम्बर की स्थितियां जब सूर्य भूमध्य रेखा पर लम्बवत चमकता है, जिसके कारण दोनों गोलार्द्धों में सर्वत्र दिन-रात बराबर होते हैं। 21 मार्च वाली स्थिति को बसंत विषुव और 23 सितम्बर वाली स्थिति को शरद विषुव की अवस्था कहा जाता है।
● सिजगी- सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी की एक रेखीय स्थिति।
● वियुति- सूर्य और पृथ्वी के बीच चंद्रमा की स्थिति, जिसके कारण चन्द्र ग्रहण होता है।
● युति- सूर्य और पृथ्वी के बीच चंद्रमा की स्थिति, जिसके कारण सूर्य ग्रहण होता है।
 उपसौर और अपसौर
 ● जब पृथ्वी सूर्य के बिल्कुल पास होती है तो उसे उपसौर (Perihelion) कहते हैं.
● उपसौर की स्थिति 3 जनवरी को होती है. इस दिन पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी 14.70 करोड़ किमीटर होती है.
● जब पृथ्वी सूर्य से अधिकतम दूरी पर होती है तो यह अपसौर (Aphelion) कहलाता है.
● अपसौर की स्थिति 4 जुलाई को होती है. ऐसी स्थिति में पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी 15.21 करोड़ किमीटर होती है.
● उपसौर और अपसौर को मिलाने वाली रेखा सूर्य के केंद्र से गुजरती है. इसे एपसाइड रेखा कहते हैं.
पृथ्वी का इतिहास –
 पृथ्वी की उत्पत्ति कब और कैसे हुई, यह एक पेचीदा प्रश्न है । लेकिन इसका विकास कैसे हुआ, यह बिल्कुल ही अलग प्रश्न है । इसके लिए पृथ्वी के भूगर्भिक इतिहास को मुख्यतः चार भागों में बाँटकर देखा जा सकता है । ये है –
 (1) प्री केम्बीयन महाकल्प – यह युग पृथ्वी के जन्म से 50 करोड़ वर्ष तक का माना जाता है । इस अवधि में पृथ्वी मूलतः गैस से पिघली हुई अवस्था में आई । पृथ्वी के ठण्डा होने पर महीन ठोस परत बनी । चूंकि इस युग में पृथ्वी पर ज्वालामुखी की क्रियायें अधिक हो रही थीं, इसलिए स्वाभाविक है कि इस काल में पृथ्वी पर किसी भी जीवन की आशा नहीं की जा सकती । यही कारण है कि इस महाकल्प के चट्टानों में जीवाश्म नहीं पाये जाते । इस महाकल्प में अवसादी चट्टानों का रूपान्तरण हुआ ।
 (2) पैल्योजोइक महाकल्प- यह युग 57 करोड वर्ष पूर्व से 22 करोड़ वर्ष पूर्व तक का माना जाता है । इस महाकल्प में पहली बार जीवन के चिन्ह उभरे । इस युग के आरम्भ को केम्ब्रीयन महाकल्प कहा जाता है । विन्ध्यांचल पर्वत का निर्माण इसी काल के दौरान हुआ था ।
 इस महाकल्प के पांचवे काल को कार्बनीफेरस काल कहा जाता है । इस काल में तापमान और आर्द्रता में वृद्धि होने के कारण भारी वर्षा हुई, जिससे भूमि का एक बड़ा भाग कच्छ बन गया । इसीलिए घने जंगल भी ऊग आये । इसी युग में वन प्रदेश कोयले के क्षेत्रों में तब्दील हुए ।
 (3) मैसोजोइक महाकल्प – यह 25.5 करोड़ वर्ष से 7 करोड़ वर्ष तक का काल है । इस महाकल्प में जलवायु गर्म एवं शुष्क हुई, जिसके कारण अंटार्कटिका की बर्फ पिघलने लगी । यह डायनासोरों का युग था, जिसमें बड़े एवं रेंगने वाले जीवों का विकास हुआ । इसी के एक काल को जुरासिक काल भी कहा जाता है । इसी शब्द को लेकर ‘जुरासिक पार्क’ नामक फिल्म बनी थी । यह युग 19.5-13.6 करोड़ वर्ष का युग रहा है ।
 इसी महाकल्प में लावा जमा होने के कारण भारत के दक्खन ट्रेक का निर्माण हुआ ।
 इसी कल्प के अन्त तक डायनासोर समाप्त हो गये ।
 (4) सेनोजोइक महाकल्प – यह काल 7 करोड़ वर्ष से 10 लाख वर्ष तक का माना गया है । चूँकि इस काल में पृथ्वी पर स्वाभाविक रूप से बहुत तेजी से परिवर्तन होने लगे थे, इसीलिए इसे कई भागों में बांटना पड़ा ।
 इस महाकल्प के पैलियोसीन युग में राकी पर्वतमालाएं बनीं । वर्तमान घोड़े के प्राचीन रूप का जन्म भी इसी काल में हुआ ।
 इथोसीन युग में स्तनधारी जीव, फलयुक्त पौधे और अनाज अस्तित्त्व में आये ।
 ओलिगोसीन युग में मानवाय कपि अस्तित्त्व में आया, जिससे आज के मानव का जन्म हुआ है ।
 मायोसीन युग में व्हेल मछली तथा बन्दर जैसे स्तनधारी पैदा हुए ।
 10 लाख वर्ष से 10 हजार वर्ष पूर्व तक का काल ‘हिम युग’ के नाम से जाना जाता ह, क्योंकि इस युग तक आते-आते पृथ्वी पर तापमान बहुत कम हो गया था, जिसके कारण अधिकांश हिस्से पर बर्फ की चादर जमा हो गई थी । बर्फ की अधिकता के कारण बड़े-बड़े जीव नष्ट हो गये तथा जो बचे, उनके शरीर पर बाल ऊग आये । वातावरण की अनुकूलता के कारण इस युग में पक्षियों तथा स्तनधारी जीवों का तेजी से विकास हुआ ।
 10 हजार वर्ष पूर्व से अब तक का काल होलोसीन युग के नाम से जाना जाता है । इस युग की विशेषता है – प्रकृति एवं मनुष्य के पारस्परिक संबंधों का विकसित होते जाना ।
 उत्तरी अमेरिका विश्व का तीसरा बड़ा महाद्वीप है. उसका क्षेत्रफल 24255000 वर्ग किमी है. उ. अमेरिका मध्य अमेरिका और कैरेबियन सागरीय क्षेत्र में कुल 29 देश है.
 उत्तरी अमेरिका की खोज 1492 ई में कोलम्बस द्वारा की गई थी. अत: इसे नई दुनिया कहा जाता है.

100 डिग्री पश्चिमी देशांतर रेखा इस महादेश के मध्य से गुजरती है.
 उत्तरीअमेरिका का नाम अमेरिगो वेसपुस्सी नामक साहसी यात्री के नाम पर अमेरिका पड़ा.
 पनामा नहर उत्तरी अमेरिकी तथा दक्षिणी अमेरिका को जोडती है. जिससे अन्ध तथा प्रशांत महासागरो के बीच जहाजों का यातायात सुगम हो गया है.
 उत्तरी अमेरिका का उच्चतम पर्वत शिखर माउंट मैकिन्ले 6194 मी अलास्का में है.
 उत्तरी अमेरिका महादेश में रेड इंडियन और नीग्रो नामक प्रमुख जनजातियाँ निवास करती है.
 उत्तरी अमेरिका के पूर्वी तट पर न्यूफाउंडलैंड के दक्षिणी पश्चिमी तटीय भाग को ग्रेंड बैंक कहते है. यह मत्स्य पालन का प्रमुख केंद्र है.
 सं.रा. अमेरिका के द. पूर्वी तट मेक्सिको की खाड़ी पर चलने वाले चक्रवात हरिकेन और टारनेड़ो कहलाते है.
 उत्तरी अमेरिका के शीतोष्ण घास के मैदान प्रेयरी कहलाते है.
 संयुक्त राज्य अमेरिका का डेट्रायट प्रमुख कार उद्योग का केंद्र है.
 कनाडा का माण्ट्रियल कागज उद्योग के लिए विश्व प्रसिद्ध है. कनाडा विश्व में सर्वाधिक कागज उत्पादित करने वाला देश है.
 संयुक्त राज्य अमेरिका विश्व का सर्वाधिक मक्का उत्पादित करने वाला देश है.
 विश्व में सर्वाधिक सोयाबीन उत्पादित करने वाला देश संयुक्त राज्य अमेरिका है.
 उत्तरी अमेरिका का मैक्सिको विश्व में सर्वाधिक चाँदी उत्खनित करने वाला देश है.
 कनाडा का वुड वुफेलो नेशनल पार्क विश्व का सर्वाधिक बड़ा पार्क है. जो उत्तरी अमेरिका महाद्वीप में ही स्थित है. यह अल्बर्टा प्रांत में स्थित है.
 उत्तरी अमेरिका के न्यूयार्क सिटी में ग्रांड सेंट्रल टर्मिनल विश्व का सबसे बड़ा स्टेशन है.
 विश्व की विख्यात मक्का मंडी संयुक्त राज्य अमेरिका के सेंट लुईस नगर में स्थित है.
 संयुक्त राज्य अमेरिका का एस्ट्रोडोम गुम्बज विश्व का सर्वाधिक बड़ा गुम्बज है.
 न्यूयार्क में स्थित अमेरिकन म्यूजियम ऑफ़ नेचुरल हिस्ट्री विश्व का सबसे बड़ा अजायबघर है.
 उत्तरी अमेरिका में स्थित सुपीरियर झील विश्व की सबसे बड़ी ताजे जल की झील है.
 संयुक्त राज्य अमेरिका के पश्चिमी भाग में नमकीन पानी का झील ग्रेट सोल्ट लेक स्थित है. यह संयुक्त राज्य अमेरिका के यूटाह राज्य में स्थित है.

 उत्तरी अमेरिका
 अमेरिका की सेंट लारेंस नदी झीलों से मिलकर विश्व का सबसे लम्बा आंतरिक जलमार्ग बनाती है.
 न्याग्रा प्रपात ईरी तथा ओंटेरियो झील के मध्य स्थित है.
 उत्तरी अमेरिका के पूर्वी तट पर लेब्राडोर ठंडी जलधारा और गल्फ स्ट्रीम गर्म जलधारा बहती है.
 विश्व में गेंहूँ की मंडी के नाम से विख्यात नगर विनिपेग कनाडा है.
 उत्तरी अमेरिका के दो अंतर पर्वतीय पठार कोलोरेडो पठार और मैक्सिको का पठार है.
 रॉकी पर्वत की प्रमुख श्रेणियाँ है – कास्केड, सियरा नेवादा, कोस्ट रेंज, सियरा मांद्रे.
 फिल्म उद्योग के लिए कैलीफोर्निया का लांस एंजिल्स नगर विश्वप्रसिद्ध है.
 उत्तरी अमेरिका की प्रमुख प्रजातियाँ है – रेड इंडियन मैक्सिको, नीग्रो पश्चिम द्वीप समूह.
 संसार का सबसे बड़ा बंदरगाह न्यूयार्क है.
 संयुक्त राज्य अमेरिका का राष्ट्रीय उद्यान है – येलोस्टोन पार्क
 संयुक्त राज्य अमेरिका की लोहे की प्रसिद्ध खान है – मेसाबी खान
 संयुक्त राज्य अमेरिका की सोने की प्रसिद्ध खान है – होमस्टेक खान
 संसार में सोने की सबसे बड़ी खान ओंटेरियो कनाडा में है.
 कनाडा में वायुयानो की झील और सागरों में जमी बर्फ पर भी उतार दिया जाता है, क्योकि यहाँ वायुयान को उतारना आसान होता है.
 ब्लैक हिल, ब्लू हिल तथा ग्रीन हिल नामक पहाड़ियाँ संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थित है.
 हवाई द्वीप समूह अमेरिका की राजधानी होनोलूल, ओआहू द्वीप पर स्थित है.
 पनामा नहर के दो बंदरगाह कोलन और पनामा है.
 जनसंख्या की दृष्टी से उत्तरी अमेरिकी का सबसे बड़ा नगर मैक्सिको सिटी है.

LECTURE -2 (GEOGRAPHY)
अक्षांश व देशांतर (Latitude And Longitude)
प्रारंभिक परीक्षा प्रश्न
1. पृथ्वी के उपग्रहों की संख्या कितनी है?
(A) शून्य (B) एक (C) दो (D) आठ

2 . निम्न में से किन तिथियों को सूर्य की किरणें विषुवत् रेखा पर सीधी पड़ती है?
(A) वर्ष भर (B) 21 मार्च (C) 23 सितम्बर (D) 21 मार्च तथा 23 सितम्बर

3. किसमें पृथ्वी के अलावा अन्य जीवन की संभावना है, क्योंकि वहाँ का पर्यावरण जीवन के लिए बहुत अनुकूल है?
(A) बृहस्पति (B) मंगल (C) यूरोपा (D) चन्द्रमा (Ans : B)

4. एक ग्रह की अपने कक्ष में सूर्य से न्यूनतम दूरी को क्या कहा जाता है?
(A) उपसौर (B) अपसौर (C) अपोजी (D) पेरिजी

5. निम्नलिखित में से कौन-सा ग्रह सूर्य का चक्कर सबसे कम समय में लगाता है?
(A) बुध (B) शुक्र (C) पृथ्वी (D) मंगल

6. नॉर्वे र्में अर्द्धरात्रि के समय सूर्य कब दिखायी देता है?
(A) 21 मार्च (B) 23 सितम्बर (C) 21 जून (D) 22 दिसम्बर

7. निम्नलिखित में से किस आकाशीय पिण्ड को ‘पृथ्वी-पुत्र’ कहा जाता है?
(A) बुध (B) शुक्र (C) चन्द्रमा (D) मंगल

8. सूर्य के गिर्द एक परिक्रमा के लिए निम्न में से कौन-सा एक ग्रह अधिकतम समय लेता है?
(A) पृथ्वी (B) बृहस्पति (C) मंगल (D) शुक्र )

9. सूर्य की परिक्रमा के दौरान पृथ्वी सूर्य से अधिकतम दूरी पर किस महीने में होती है?
(A) मार्च (B) जुलाई (C) सितम्बर (D) जनवरी
10. ग्रीनविच रेखा क्या है—
(A) 0° देशांतर (B) 15° देशांतर (C) 90° देशांतर (D)180 देशांतर

lecture- 3
भारत का भूगोल

भौगोलिक दृष्टि से भारत का मुख्य भूभाग 8°4′ से लेकर 37°6′ उत्तर अक्षांश के बीच है और 68°7′ पूर्व देशांतर से 97°25′ पूर्व देशांतर के मध्य फैला है. भारत का कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 32,87,263 वर्ग किमी. है. कर्करेखा इस देश को दो सामान भागों में बाँट देती है. 2004 के पूर्व इसका सबसे दक्षिणी छोर इंदिरा पॉइंट के नाम से जाना जाता था. यह 2004 की सुनामी लहरों में जलमग्न हो गया. देश का अक्षांशीय और देशान्तारीय विस्तार लगभग 30° है.
देशंतारीय विस्तार का प्रभाव भी भारत के समय पर पड़ता है. समय की दृष्टि से 1° की दूरी पर 4 मिनट का अंतर आता है और 15° की दूरी पर 60 मिनट यानी एक घंटे का अंतर आता है.
भौगोलिक स्थिति और विस्तार
1. भारत की मुख्य भूमि 8°4′ से लेकर 37°6′ उत्तर अक्षांश के बीच है.
2. भारत का देशांतरीय विस्तार 68°7′ पूर्व देशांतर से 97°25′ पूर्व देशांतर के मध्य है.
3. कर्करेखा (23°30′ उत्तरी अक्षांश) भारत को उत्तर-दक्षिण दो भागों में बांटती है.
4. भारत के अक्षांशीय और देशान्तरीय विस्तार का अंतर लगभग 30° है.
5. भारत का पूर्व-पश्चिम विस्तार 2,933 किलोमीटर तथा उत्तर-दक्षिण विस्तार 3,214 किलोमीटर है.
6. 22° उत्तर अक्षांश के दक्षिण भारत का पूर्व-पश्चिम विस्तार घटता गया है.
7. भारत के दक्षिणतम बिंदु कन्याकुमारी के निकट बंगाल की खाड़ी, अरब सागर और हिन्द महासागर का संगम है.
8. मुख्य भूमि की तटीय लम्बाई 6,100 किलोमीटर तथा द्वीपों को मिलाकर तट की कुल लम्बाई 7,516.6 किलोमीटर है.
9. भारत की स्थल सीमा की कुल लम्बाई 15,200 किलोमीटर है.
10. भारत का कुल क्षेत्रफल 32.8 लाख वर्ग किलोमीटर है.
11. क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का विश्व में साँतवा स्थान है.
12. भारत के पास विश्व के कुल क्षेत्रफल का 2.4% भाग है.
13. पठारी प्रदेश प्रायद्वीपीय भारत कहलाता है.
14. अरुणाचल प्रदेश तथा गुजरात के बीच सूर्योदय में 2 घंटे का अंतर होता है.
15. स्वेज नहर के बनने के बाद भारत और यूरोप के बीच लगभग 7,000 किमी. दूरी कम हो गई.
16. भारत की सीमा 7 पड़ोसी देशों पकिस्तान, अफगानिस्तान, नेपाल, चीन, भूटान, मयन्मार और बांग्लादेश को छूती है.
17. लक्षद्वीप अरब सागर में तथा अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह बंगाल की खाड़ी में स्थित है.
18. श्रीलंका मन्नार की खाड़ी और पाक जलसन्धि से भारत से अलग होता है.
19. भारत और पाकिस्तान के बीच रेडक्लिफ और भारत और चीन के बीच मैकमोहन रेखा स्थित हैं.
20. भारत का पूर्व-पश्चिम सर्वाधिक विस्तार 22° उत्तरी अक्षांश पर मिलता है.
21. देश के दक्षिणी भाग की आकृति लगभग त्रिभुजाकार है.
22. भारत के अक्षांशीय और देशान्तरीय विस्तार का प्रभाव समय, तापमान, मौसम आदि पर पड़ता है.
23. केरल और तमिलनाडु जैसे राज्यों में विषुवतरेखा के निकट होने के चलते हमेशा तापमान अधिक रहता है.
24. विषुवतीय रेखा से दूर और अधिक ऊँचाई पर स्थिति होने के कारण जम्मू-कश्मीर का तामपाम बहुत कम होता है.
25. देश का उत्तरी भाग शीतोष्ण क्षेत्र में पड़ता है.
26. अक्षांशीय दूरी बढ़ने से दिन-रात की अवधि में अंतर आता है.
27. केरल और तमिलनाडु में सबसे छोटे और सबसे बड़े दिन में 45 मिनिट का अंतर होता है जबकि लेह में यह 5 घंटे का होता है.
28. 82°.30′ पूर्व देशांतर रेखा को भारत की मानक यमोत्तर माना जाता है.
29. भारत तथा अन्य पड़ोसी देशों ने मिलकर 8 दिसम्बर 1985 को दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संगठन (SAARC) का निर्माण किया है.
30. भारत पूर्ण रूप से विषुवतरेखा से उत्तर में स्थित है.
31. भारत और श्रीलंका के बीच स्थित द्वीपीय श्रृंखला को एडम ब्रिज कहा जाता है.

भारत की नदियों (Rivers of India) को चार समूहों में वर्गीकृत किया जा सकता है – 1) हिमालय की नदियाँ 2) प्रायद्वीपीय नदियाँ 3) तटीय नदियाँ 4) अन्तःस्थलीय प्रवाह क्षेत्र की नदियाँ. आज हम भारत की प्रमुख नदियों के विषय में बात करेंगे और वे कहाँ से निकलती (origin) हैं, उनकी सहायक नदी (Tributary river) कौन हैं और ये कहाँ जाकर गिरती हैं, इसकी भी चर्चा करेंगे.
Rivers of India, Origin and Tributary Rivers
सिन्धु नदी
इसका उद्गम तिब्बती क्षेत्र में कैलाश पर्वत श्रेणी में बोखर चू के निकट एक हिमनद से होता है जो 4,164 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है. तिब्बत में इसे सिंघी खंबान या शेर मुख कहते हैं. सिन्धु नदी कराची के पूर्व में अरब सागर में जा गिरती है.
सतलज
सतलज नदी का उद्गम (origin) तिब्बत में कैलाश पर्वत के दक्षिण में स्थित मानसरोवर झील के समीप राक्षस ताल है. पर्वतीय क्षेत्र को पार करने के बाद पंजाब में रूपनगर के निकट यह मैदानी भाग में प्रवेश करती है. यह रावी, चेनाब और झेलम नदियों का संयुक्त जल एकत्रित करके पाकिस्तान में मिथनकोट नामक स्थान पर सिन्धु नदी (sindhu river) में जा गिरती है.
झेलम
यह कश्मीर की घाटी के दक्षिण-पूर्व में 4900 मीटर की ऊँचाई पर स्थित वीरिनाग के निकट झरने से निकलती है. कश्मीर में बहुत-सी नदियाँ इससे आकर मिलती हैं. पाकिस्तान में प्रवेश करने से पहले यह नदी श्रीनगर और वूलर झील से बहते हुए एक तंग व गहरे महाखंड से गुजरती है और पाकिस्तान में झंग के निकट यह चेनाब नदी (chenab river) से जा मिलती है.
चेनाब या चंद्रभागा
चेनाब, सिन्धु की सबसे बड़ी सहायक नदी है. यह चंद्रा और भागा दो नदियों के मिलने से मिलती हैं इसलिए इसे Chandrabhaga भी कहते हैं.
रावी
रावी, सिन्धु की एक अन्य सहायक नदी है. यह हिमाचल प्रदेश की कुल्लू पहाड़ियों में रोहतांग दर्रे के पश्चिम से निकती है और राज्य की चंबा घाटी से बहती है. अपने उद्गम (origin) स्थान से शुरू होकर पाकिस्तान में मुल्तान के निकट चेनाब नदी के साथ मिलने तक यह 720 किमी. की दूरी तय करती है.
व्यास
यह नदी हिमालय में स्थित रोहतांग दर्रे में 4067 मीटर की ऊँचाई पर स्थित व्यास कुंड से निकलती है. पूरे सिन्धु प्रवाह तंत्र में व्यास ही एक ऐसी नदी है जो पूर्णतया भारत में बहती है.
गंगा
यह उत्तरी भारत की सबसे प्रमुख नदी है. इसके अपवाह क्षेत्र में भारत के सबसे घने बसे और उपजाऊ राज्य उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल आते हैं.

यमुना
यमुना, गंगा की सबसे पश्चिमी और सबसे लम्बी सहायक नदी (tributary river) है. इसका उद्गम (origin) यमुनोत्री हिमनद है. इसका अधिकाँश जल सिंचाई उद्देश्यों के लिए पश्चिमी और पूर्वी यमुना नहरों और आगरा नाहर में आता है.
रामगंगा
यह नदी गैरसेन के निकट गढ़वाल की पहाड़ियों से निकलने वाली अपेक्षाकृत छोटी नदी है. अंत में कन्नौज के निकट यह गंगा नदी में मिल जाती है.
काली, काली गंगा, शारदा या सरजू
इस नदी का उद्गम नेपाल के हिमालय में मिलान हिमनद में है. यह भारत-नेपाल सीमा के साथ बहती हुई, जहाँ काली या चाइक कहा जाता है, घाघरा नदी में मिल जाती है.
घाघरा
घाघरा नदी पहाड़ी क्षेत्र में कर्णाली या कौरियाला और मैदान में घाघरा कहलाती है. शारदा नदी इससे मैदान में मिलती है और अंत में छपरा, बिहार में यह गंगा नदी में विलीन हो जाती है.
गंडक
यह नदी दो धाराओं कालीगंडक और त्रिशूलगंगा के मिलने से बनती है. बिहार के चंपारन जिले में यह गंगा मैदान में प्रवेश करती है और पटना के निकट सोनपुर में गंगा नदी में जा मिलती है.
कोसी
यह गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदियों में से एक है. इसका उद्गम (origin) तिब्बत में माउंट एवरेस्ट के उत्तर में है, जहाँ से इसकी मुख्य धरा अरुण निकलती है. इस नदी में बाढ़ें (flood) बहुत आती हैं, जिससे अपार जन-धन में हानि होती है. इसलिए इसे शोक की नदी भी कहते हैं.
चम्बल
यह नदी मध्य देश में महू के निकट जनापाव पहाड़ी से निकलती है जो समुद्र तल से 616 मीटर ऊँची है.
बेतवा
यह मध्य प्रदेश में भोपाल से निकलकर उत्तर-पूर्वी दिशा में बहती हुई भोपाल, ग्वालियर, झाँसी, जौलान आदि जिलों में होकर बहती है.
सोन
गंगा के दक्षिण तट पर सों एक बड़ी सहायक नदी है, जो अमरकंटक पठार से निकलती है. पठार के उत्तरी किनारे पर जलप्रपातों की श्रृंखला बनाती हुई यह नदी पटना से पश्चिम में आरा के पास गंगा नदी में विलीन हो जाती है.
ब्रह्मपुत्र
ब्रह्मपुत्र नदी को ब्रह्मा की बेटी भी कहा जाता है. विश्व की सबसे बड़ी नदियों में से एक ब्रह्मपुत्र का उद्गम कैलाश पर्वत श्रेणी में मानसरोवर झील के निकट चेमायुंगडुग हिमनद में है.
गोदावरी
इसे दक्षिण गंगा के नाम से भी जाना जाता है. यह महाराष्ट्र में नासिक जिले से निकलती है और बंगाल की खाड़ी में जाकर गिरती है.
महानदी
महानदी छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले में सिहावा के निकट निकलती है. यह उड़ीसा से बहती हुई अपना जल बंगाल की खाड़ी में विसर्जित करती है.
कृष्णा
यह पूर्व दिशा में बहने वाली दूसरी बड़ी प्रायद्वीपीय नदी है, जो सह्याद्री में महाबलेश्वर के निकट निकलती है. इसकी कुल लम्बाई 1,401 किमी. है.
कावेरी
यह नदी कर्नाटक के कोगाडु जिले में ब्रह्मगिरि पहाड़ियों से निकलती है. मैसूर पठार में या नदी कई जल-प्रपात बनाती है जिनमें शिवासमुद्रम प्रसिद्ध है.
तुंगभद्रा
यह तुंगा और भद्रा नदियों के मिलने से बनी है. तुंगा कर्नाटक के पश्चिमी घाट की गंगामूल चोटी के नीचे से और भद्रा, काडूर जिले से निकलती है.
माही
नर्मदा और तापी के बाद यह गुजरात में तीसरी बड़ी नदी है. इस नदी की उत्पत्ति विन्ध्याचल पर्वत से होती है.
नर्मदा
यह नदी अमरकंटक पठार के पश्चिमी पार्श्व से लगभग 1,057 मीटर की ऊँचाई से निकलती है.
तापी
यह पश्चिम दिशा में बने वाली एक अन्य महत्त्वपूर्ण नदी है. यह मध्य प्रदेश में बेतूल जिले में मुलताई से निकलती है. यह सूरत के निकट खम्भात की खाड़ी में विलीन हो जाती है.
दामोदर
यह नदी छोटानागपुर पठार के पूर्वी किनारे पर बहती है और भ्रंश घाटी से होती हुई हुगली नदी में गिरती है.
महानंदा
यह गंगा की एक सहायक नदी है, जो दार्जलिंग पहाड़ियों से निकलती है. यह नदी पश्चिमी बंगाल में गंगा के बाएँ तट पर मिलने वाली अंतिम सहायक नदी है.
लूनी
लूनी नदी पुष्कर के समीप दो धाराओं सरस्वती और सागरमती के रूप में उत्पन्न होती है, जो गोबिंदगढ़ के निकट आपस में मिल जाती है. तलवाड़ा तक यह पश्चिम दिशा में बहती है और उसके बाद दक्षिण-पश्चिम दिशा में बहती हुई कच्छ के रन में जा मिलती है.
साबरमती
इस नदी का उद्गम अरावली की पहाड़ियों में राजस्थान के डूंगरपुर जिले में स्थित है. यहाँ से यह दक्षिम-पश्चिम दिशा में 300 k.m. की दूरी तय करके खम्भात की खाड़ी में विलीन हो जाती है.
नदी उद्गम स्थल
सिन्धु तिब्बती क्षेत्र में कैलाश पर्वत श्रेणी में बोखर चू (bokharchu) के निकट एक हिमनद
झेलम कश्मीर घाटी के दक्षिण-पूर्व में पीर पंजाल गिरिपद में स्थित वीरिनाग झरना (Verinag Spring)
चेनाब चंद्रा और भागा दो सरिताओं के मिलने से जो हिमाचल प्रदेश में केलांग के निकट तांडी में आपस में मिलती हैं.
रावी हिमाचल प्रदेश की कुल्लू पहाड़ियों में रोहतांग दर्रे (rohtang pass) से
व्यास रोहतांग दर्रे के निकट व्यास कुंड से
सतलज मानसरोवर के नजदीक गंगोत्री हिमनद से
गंगा गोमुख के निकट गंगोत्री हिमनद
अलकनंदा सतोपंथ हिमनद (satopanth glacier)
यमुना यमुनोत्री हिमनद
चम्बल मालवा पठार में महु के नजदीक
घाघरा मापचाचुंगो हिमनद (glaciers of Mapchachungo)

कोसी माउंट एवरेस्ट के उत्तर में
शारदा मिलाम हिमनद (milam glacier)
महानदी दार्जलिंग की पहाड़ियाँ’
सोन अमरकंटक पठार
ब्रह्मपुत्र कैलाश पर्वत श्रेणी में मानसरोवर झील के निकट चेमायुंगडुंग हिमनद (chemayungdung glacier)
महानदी छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले में सिहावा (sihawa) के निकट
गोदावरी महाराष्ट्र में नासिक जिला
कृष्णा सह्याद्री में महाबालेश्वर के निकट
कावेरी कर्नाटक के कोडागु जिले में ब्रह्मगिरी पहाड़ियाँ
नर्मदा अमरकंटक पठार
तापी मध्य प्रदेश का बेतूल जिले का मुलताई
वैतरणी नासिक जिले में त्रिम्बक पहाड़ियाँ
कालिंदी बेलगाँव जिला
शरावती कर्नाटक का शिमोगा जिला (shimoga district)
भरतपूझा (bharathapuzha), केरल अन्नामलाई पहाड़ियाँ (annamalai hills)
माही विन्ध्याचल पर्वत
साबरमती अरावली की पहाड़ियाँ

PAHUJA LAW ACADEMY
lecture- 3
भारत का भूगोल
प्रारंभिक परीक्षा प्रश्न

1. आल इण्डिया रेडियो की स्थापना किस वर्ष में हुई थी?
(A) 1947 (B) 1950 (C) 1927 (D) 1936

2. ‘आल इण्डिया रेडियो’ को आकाशवाणी का नाम किस वर्ष दिया गया?
(A) 1947 (B) 1957 (C) 1950 (D) 1960
3. भारत में प्रथम टेलीविजन प्रसारण, प्रशिक्षण रूप में कब हुआ था?
(A) 1959 (B) 1965 (C) 1976 (D) 1957
4. टेलीविजन को दूरदर्शन का नाम एवं स्वतन्त्र अस्तित्व्व किस वर्ष प्राप्त हुआ?
(A) 1965 (B) 1976 (C) 1972 (D) 1981
5. भारत में पहला रेडियो स्टेशन किस नगर में बना?
(A) मुम्बई (B) कोलकाता (C) चेन्नई (D) दिल्ली
6. भारत में सबसे बड़ा जनजातीय समुदाय है–
(A) भील (B) गोंड (C) संथाल (D) थारु
7. निम्नलिखित में से कौन-सी एक खरीफ फसल नहीं है?
(A) कपास (B) मूँगफली (C) मक्का (D) सरसों
8. निम्नलिखित नदियों में से कौन-सी एक, सबसे लंबी है?
(A) अमेजन (B) आमूर (C) कांगो (D) वोग्ला
9. सर्वाधिक जैव विविधता पायी जाती है–
(A) कश्मीर घाटी में (B) शान्त घाटी में (C) सुरमा घाटी में (D) फूलों की घाटी में
10. भारत के उत्तर से दक्षिण तक विस्तार कितना है—
(A) 3214 किमी, (B) 3423 किमी (C) 6712 किमी (D) 3455 किमी

ABOUT PLA

PLA offers extensive Training Programmes to help you succeed in fiercely competitive examinations like CLAT and other Law entrance exams in India. Our passion is to help you create a successful career in Law.

Who’s Online

There are no users currently online
top
Copyright © 2017. Pahuja Law Academy
Designed & Developed By : Asap Comm Ind
Registration Opens For Judiciary Coaching


X
Free Demo Class Every Sunday - 10 AM & Every Wednesday - 04 PM                                    Free Demo Class Every Sunday - 10 AM & Every Wednesday - 04 PM